What
  • Administration & Legislators
  • American
  • Arts & Entertainment
  • Automotive
  • Ayurveda
  • Banquet Halls
  • Bars
  • Beauty & Spa
  • Beauty Parlour
  • Bird Knitting
  • Boutique
  • Brazilian
  • Breakfast
  • Breakfast & Brunch
  • Burgers
  • Business Leaders
  • Cafes
  • Caterers
  • Catering
  • Clinic
  • Coaching Classs
  • Cocktail Bars
  • Comfort Food
  • Confectionery
  • Dairy
  • Dairy Store
  • Day Care
  • Delis
  • Desserts
  • Dry Cleaning Services
  • Education & Coaching
  • Fast Food
  • Food & Restaurant
  • Health & Medical
  • Home Furnishing
  • Homeopathic
  • Hospital
  • Hot Dogs
  • Hotels
  • Indian
  • Indian (Veg)
  • Influencer/ Leaders
  • Interior Design
  • Italian
  • Japanese
  • Lawyer
  • Loan/ Mutual Fund/Insurance
  • Make up Artist
  • Mediterranean
  • Mexican
  • Modern European
  • Naturopathy
  • NGO
  • Peruvian
  • Pharmacy/ Medical Store
  • Physiotherapist
  • Pizza
  • Political Leaders
  • Pre-School
  • Professional Services
  • Real Estate
  • Receptions Venues
  • Restaurant
  • RWA/AOA
  • Salad
  • Sandwiches
  • School
  • Seafood
  • Shopping
  • Social
  • Stationery
  • Veterinary Hospital
  • Video Graphers
  • Wedding Bands
  • Wedding Jewelry
  • Wedding Makeup
  • Wedding Photographs
  • Wedding Planner
  • Wedding Pro
Where

शैलेंद्र बरनवाल (Shailendra Barnwal) Noida Claimed

Social worker I RTI Activist I Politician

Be the first to review

शैलेंद्र बरनवाल दिल्ली और नोएडा जाने-माने समाजसेवी और राजनेता है । शैलेंद्र अपना कोचिंग व्यवसाय चलाते हैं । और बीते 20 सालों से दिल्ली एनसीआर के बच्चों को केमिस्ट्री की कोचिंग करा रहे है । दौरान कांग्रेस सेवा दल के पूर्व उपाध्यक्ष शैलेंद्र बर्नवाल को समाजवादी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता दिलाई। सपा महानगर अध्यक्ष दीपक विग ने उनका नाम महानगर उपाध्यक्ष के लिए प्रस्तावित करके प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल के पास भेजा है।

शैलेंद्र ने बीते 10 सालों में फ्लैट वायरस की लड़ाई को लेकर बिल्डर के खिलाफ तमाम आरटीआई लगाई और मुकदमे भी लड़े है। 2017 में वह आम आदमी पार्टी नोएडा महानगर शाखा से जुड़े और 2019 चुनाव से पहले उन्होंने आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस सेवा दल ज्वाइन किया । लेकिन कांग्रेस की नीति और खास करके दिग्विजय सिंह द्वारा दिया गया 370 के संदर्भ में दिया गया बयान से वह काफी आहत हुए और कांग्रेस पार्टी छोड़ने का फैसला किया